मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत पंजीकृत युवाओं को टैबलेट देगी योगी सरकार

प्रतियोगी छात्रों को टैबलेट का तोहफा ,बजट में युवाओं पर खास फोकस, कौशल विकास, रोजगार के जरिये साकार होगा युवाओं का सपना ,संस्कृत विद्यालयों पर भी ध्यान, गुरूकुल पद्धति के अनुरूप होगी पढ़ाई, छात्रावास एवं भोजन की सुविधा भी निःशुल्क

लखनऊ : प्रतियोगी छात्रों को स्तरीय तैयारी का प्लेटफॉर्म मुहैया करवाने वाली मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की खास योजना ‘अभ्युदय’ में अब छात्रों को टैबलेट भी मिलेगा। सोमवार को पेश बजट में इस बाबत प्राविधान किए गए हैं। बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि प्रदेश के युवाओं को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता दिलाने के उद्देश्य से निःशुल्क कोचिंग की योजना ‘मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना’ के प्रति युवाओं में अत्यधिक उत्साह है। योजना के अन्तर्गत राज्य सरकार पात्रता के आधार पर छात्र एवं छात्राओं को टैबलेट उपलब्ध कराएगी, ताकि वे डिजिटल लर्निग के माध्यम से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर सकें। इस बाबत समुचित धनराशि की व्यवस्था होगी।

योगी सरकार के पांचवे वित्तीय बजट में युवाओं पर खास फोकस किया गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि हमारा यह मानना है कि युवा शक्ति एवं ऊर्जा समाज के विकास का सशक्त वाहक हैं। हमने समाज के युवा वर्ग के सर्वांगीण विकास पर विशेष ध्यान दिया है। प्रदेश के युवाओं के कौशल का सम्वर्द्धन हमारी प्राथमिकता है, ताकि वे रोजगार के अवसरों का भरपूर उपयोग कर सकें। ‘डिजिटल विलेज’ की अवधारणा का जिक्र करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि डिजिटल विलेज के विकास से ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं को बेहतर कनेक्टिविटी उपलब्ध होगी, जिससे वे शिक्षा एवं रोजगार के वैश्विक परिदृश्य से परिचित हो सकेंगे। यही नहीं, सहायता प्राप्त अशासकीय माध्यमिक विद्यालयों तथा राजकीय संस्कृत विद्यालयों में अवस्थापना सुविधा के विकास एवं सुदृढ़ीकरण का निर्णय लिया गया है। संस्कृत विद्यालयों में अध्ययनरत निर्धन छात्रों को गुरुकुल पद्धति के अनुरूप निःशुल्क छात्रावास एवं भोजन की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

12 जिलों में होगी मॉडल कॅरियर सेन्टर की स्थापना

वित्त मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कॅरियर काउंसलिंग कार्यक्रमों का आयोजन कर बेरोजगार युवाओं को रोजगार के उपलब्ध अवसरों तथा रोजगारपरक प्रशिक्षण आदि की जानकारी प्रदान की जाती है, ताकि उन्हें अपने कौशल एवं योग्यता के अनुसार रोजगार प्राप्त करने में सहूलियत हो। अक्टूबर , 2020 तक वर्तमान वित्तीय वर्ष में ऐसे 943 कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिनमें 52,000 से अधिक युवाओं द्वारा प्रतिभाग किया गया। नेशनल कॅरियर सर्विस प्रोजेक्ट के अन्तर्गत प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर मॉडल कॅरियर सेन्टर स्थापित किए गए हैं। अब प्रदेश के 12 अन्य जिलों में मॉडल कॅरियर सेन्टर स्थापित किये जाने की भी योजना है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन द्वारा विगत 04 वर्षों में 07 लाख से अधिक युवाओं को प्रशिक्षित किया गया है तथा 03 लाख से अधिक युवाओं को रोजगार से जोड़ा गया है। बजट में युवा खेल विकास एवं प्रोत्साहन योजना के लिये हेतु 8.55 करोड़ रुपये की व्यवस्था प्रस्तावित है। ग्रामीण क्षेत्रों में युवाओं को खेलकूद के बेहतर अवसर प्रदान किये जाने के लिए ग्रामीण स्टेडियम एवं ओपेन जिम के निर्माण हे 25 करोड़ रुपये की व्यवस्था प्रस्तावित है।

जो होता है वो होने दो, यह पौरुषहीन कथन है।
हम जो चाहेंगे वह होगा, इन शब्दों में ही जीवन है।।

(बजट पेश करते हुए यह कविता पढ़कर वित्तमंत्री ने युवा कल्याण के प्रति राज्य सरकार की प्रतिबद्धता प्रकट की)

बजट में यह भी खास

– मेरठ में नए स्पोर्ट्स विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए 20 करोड़ रुपये

– युवक एवं महिला मंगल दलों के प्रोत्साहन हेतु 20 करोड़ रुपये

– प्रान्तीय रक्षक दल कोष की धनराशि में वृद्धि होगी, जिससे प्रान्तीय दल के सदस्यों को प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता राशि में वृद्धि होगी।

– युवा अधिवक्ताओं को आर्थिक सहायता प्रदान किये जाने हेतु कॉर्पस फंड में 5 करोड रुपये

– प्रदेश के विभिन्न जिलों में अधिवक्ता चैम्बर का निर्माण एवं उनमें अन्य अवस्थापना सुविधाओं के विकास हेतु 20 करोड़ रूपये की धनराशि की व्यवस्था प्रस्तावित

– युवा अधिवक्ताओं के लिये पुस्तक एवं पत्रिका आदि के कर करने हेतु 10 करोड़ रूपये

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button