बलिया में पकड़ा गया मुंबई में महिला का हत्यारा, डकैती का सामान भी बरामद

मुंबई क्राइम ब्रांच और यूपी एसटीएफ ने बलिया की कार्रवाई

बलियाः शुक्रवार की रात जब मुंबई की क्राइम ब्रांच टीम बलिया में छापेमारी कर रही थी तो सभी हैरान थे। इसी बीच कई तरह के कयास भी लगाये जा रहे थे जिससे की अब पर्दा उठ गया है। लखनऊ एसटीएफ, क्राइम ब्रांच व एमवीवीवी कमिश्नरेट की टीम ने मंगलवार को बलिया रेलवे स्टेशन परिसर से महिला समेत तीन लोगों को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है। इन सभी को पुलिस ने ट्रांजिस्ट रिमांड पर लिया है। आरोपितों के पास से मृतक महिला का मोबाइल फोन, पैन कार्ड, आधार कार्ड व नकदी रुपये बरामद हुए हैं।

मुंबई क्राइम ब्रांच और यूपी एसटीएफ ने बलिया की कार्रवाई

मामला मुंबई में महिला की हत्या से जुड़ा है। बताया गया है कि 21 जुलाई को मुंबई के भयेन्दर थाना क्षेत्र के भोलानगर झोंपड़पट्टी में सुमन देवी नाम की महिला की हत्या कर उसके घर से जेवरात, मोबाइल फोन, आधार कार्ड, एटीएम कार्ड, पैन कार्ड, चेक बुक, बैंक पासबुक व 38 हजार रुपये की डकैती की गई थी। थाना भयेन्दर में मुकदमा दर्ज हुआ था।
मुंबई पुलिस को घटना में संलिप्त अभियुक्तों के बलिया में होने की सूचना मिली। जिसके बाद मुंबई क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तारी के लिए यूपी एसटीएफ से सहयोग मांगा। जिसके बाद पुलिस ने बलिया में हत्यारों की घेराबंदी की। अभियुक्त सोनू पुत्र विजय चैहान निवासी गलाफरपुर पकहा व सुधीर कुमार पुत्र तुलसी चैहान निवासी कुसौरी कला, थाना सहतवार को टीम ने रेलवे स्टेशन परिसर से गिरफ्तार कर लिया।
डकैती का सामान भी हुआ बरामद, हत्या में सहयोगी महिला भी गिरफ्तार
उनकी निशानदेही पर मुन्नी देवी पत्नी लाला वर्मा निवासी गलाफरपुर पकहा को गिरफ्तार करते हुए टीम ने डकैती का माल भी बरामद किया। जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी सोनू चैहान व सुधीर महाराष्ट्र में एक रबड़ की कंपनी में काम करते थे। सोनू के ही गांव की सुमन अपने पति के साथ भोलानगर झोंपड़पट्टी, भयेन्दर महाराष्ट्र में रहती थीं। उसका पति प्राइवेट फैक्ट्री में काम करता था। सोनू व सुधीर का उसके घर पर आना-जाना था। इन लोगों को लगा कि उसके पास 25-30 लाख रुपये के गहने व नगद हैं।
पुलिस से बचने के लिए भाग आएं थे बलिया
इसके बाद उन्होंने उसकी हत्या कर गहने व रुपये लूटने की साजिश रची। किसी को संदेह न हो, इसलिए दोनों ने गांव की महिला मुन्नी देवी को सबकुछ बताकर महाराष्ट्र बुला लिया। दोनों मुन्नी के साथ 21 जुलाई को सुमन के घर पहुंचे। इस पर वह इन सभी के लिए चाय व नाश्ता बनाने लगी। तीनों ने मिलकर उसका मुंह तथा गला दबाकर हत्या कर दी और डकैती की वारदात को अंजाम दे दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *