उभांव इंस्पेक्टर के दबंगई के खिलाफ सीयर अस्पताल का कार्य ठप

प्रभारी चिकित्साधिकारी से मिले एसडीएम और सीओ, वार्ता विफल

बलिया: जनपद बलिया के उभांव इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्र द्वारा मनमाना फिटनेस बनवाने के लिए प्रभारी अधीक्षक के साथ किए गए बदसलुकी के विरोध में शनिवार को चिकित्सको ने  सीयर अस्पताल में चिकित्सकीय कार्य ठप कर दिया। डाक्टरों के हड़ताल की जानकारी मिलते ही प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। एसडीएम सर्वेश यादव और सीओ शिव नारायण वैस भी अस्पताल पहुंचे। एसडीएम ने पीड़ित प्रभारी अधीक्षक डा. साजिद और डा. लालचंद्र शर्मा के साथ ही मुख्य फर्मासिस्ट से वार्ता किया। मामले की पूरी जानकारी लेने के बाद एसडीएम ने अस्पताल में वैक्सीनेशन सेवा शुरु करने को लेकर चिकित्सकों से वार्ता की किंतु चिकित्सक बिना किसी सार्थक वार्ता और कार्रवाई के बगैर किसी तरह की सेवा शुरु करने से इंकार कर दिया।

वैक्सीनेशन चालू कराने को लेकर वार्ता विफल

जिससे करीब एक घंटे तक चिकित्सकों से वार्ता में स्थिति सामान्य करने का एसडीएम का प्रयास पूरी तरह से विफल रहा। इस दौरान अस्पताल में चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों में जबरदस्त रोष व्याप्त रहा। अस्पताल प्रभारी अधीक्षक डा. साजिद हुसैन ने बताया कि दो दिन पूर्व ही वैक्सीनेशन के लिए पहुंची भीड़ के बवाल से अस्पताल के गेट का शीशा टूट गया था। इंस्पेक्टर ने दबंगई दिखाते हुए अस्पताल पर किसी भी परिस्थिति में पुलिसिया सेवा न देने की धमकी दिया था। जिसका हवाला देते हुए चिकित्सक अस्पताल में किसी तरह के बवाल होने या कराने की आशंका जता रहे थे। प्रभारी अधीक्षक ने कहा कि पुलिस इंस्पेक्टर के उभांव थाना पर रहते किसी तरह की यहां सेवा सामान्य करना संभव नहीं हो सकेगा। एसडीएम सर्वेश यादव ने कहा कि पूरे मामले की जांच रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजी जा रही है। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर आगे कार्रवाई होगी। अस्पताल पर शनिवार को वैक्सीनेशन भी ठप रहा। बड़ी संख्या में मरीज अस्पताल से लौट गए। सीयर सीएचसी पर उभांव इंस्पेक्टर के दबंगई के खिलाफ काम ठप होने का नोटिस चस्पा कर दिया गया था। चिकित्सक सिर्फ इमरजेंसी सेवा के लिए तैनात रहे।

फिटनेस सर्टिफिकेट बनवाने के लिए इंस्पेक्टर ने अस्पताल पर दिखाई थी दबंगई

बता दें कि शुक्रवार को मनचाहा फिटनेस सर्टिफिकेट बनवाने के लिए इंस्पेक्टर ने अस्पताल पर जमकर दबंगई दिखाई थी। इंस्पेक्टर ने अपना फिटनेस सर्टिफिकेट के लिए पहले दो सिपाही को भेजा और जब डाक्टरों ने इंस्पेक्टर के आए बिना सर्टिफिकेट जारी करने से मना किया तो अस्पताल पहुंचकर इंस्पेक्टर ने डाक्टरों को जमकर झाड़ लगाई। मरीज देख रहे डाक्टरों और प्रभारी अधीक्षक को इंस्पेक्टर ने यहां तक धमकी दे डाली कि अब अस्पताल में कोई बवाल होता है तो यहां उभांव थाना से सिपाही तक नहीं आयेंगे। जिसके बाद से ही अस्पताल में पुलिसिया रवैये के प्रति रोष व्याप्त है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *