बलिया पुलिस की दबंगई के खिलाफ पीड़िता ने एसपी से लगाई गुहार

बलिया: जनपद के उभांव थाना अंतर्गत ककरासो गांव में वर्दी के रौब में तीन सिपाहियों ने 20 हजार रुपए वसूलने को लेकर जमकर दबंगई की। जिसके खिलाफ घटना के चैथे दिन गुरुवार को पीड़ता अनिता देवी अपने पति राजकुमार गुप्ता के साथ बलिया एसपी देवेंद्र नाथ से बलिया आवास पर मुलाकात की और लिखित तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की। एसपी ने पीड़ितों का मामला सुनने के बाद तीन दिन में कार्रवाई का भरोसा दिया। पीड़ता संग भाजपा जिला महामंत्री आलोक शुक्ला सोनू, बेल्थरारोड मंडल अध्यक्ष सतीश प्रधान, अंजय राव, पंकज मोदी आदि मौजूद रहे।

मालूम हो कि ककरासो निवासी राजकुमार गुप्ता अपने पुराने मकान के पिछले हिस्से का पुर्ननिर्माण करा रहे थे। 26 अक्टुबर की देर शाम उभांव थाना के उक्त हलका के सिपाही दीपनारायण पासवान, विनोद सिंह व सोहन सोनकर मौके पर पहुंचे और राजकुमार गुप्ता को हड़काते हुए भद्दी-भद्दी गाली देने लगे। विरोध करने पर उनकी पिटाई शुरु कर दी। जब बीचबचाव को उनकी पत्नी अनिता देवी पहुंची तो उक्त सिपाहियों ने उनकी भी पिटाई की और गाली देने लगे। हो हल्ला सुन घर में मौजूद उनके दोनों पुत्र आदर्श राज गुप्ता व रोहित गुप्ता पहुंचे और सिपाहियों की दादागिरी का विरोध किया और उनके हरकतों का मोबाइल से विडियो बनाने लगे।

इस बीच सिपाहियों ने दोनों युवकों की जमकर पिटाई की और दो मोबाइल छिनकर मौके से निकल गए। पुलिस ने 24 घंटे बाद पीड़ित पक्ष के दोनों मोबाइल को वापस तो कर दिया किंतु उसमें बना सारा विडियो डिलिट कर दिया था। बावजूद घटना के समय पास से गुजर रहे विसर्जन जुलूस में शामिल एक अन्य युवक ने पूरे मामले की विडियो रिकार्डिंग कर ली। जो बुधवार को वायरल हो गया। जिससे क्षेत्र में उभांव इंस्पेक्टर योगेंद्र बहादुर सिंह की क्षवि तो धुमिल हुई ही, लोगों पर पुलिस पर से फिर से भरोसा उठने लगा है। उभांव इंस्पेक्टर योगेद्र बहादुर सिंह ने स्पष्ट किया था कि मामले में सिपाहियों का मौके पर जाना गलत था। उक्त पीड़ित का निर्माण कार्य उनके जांच व स्थलीय निरीक्षण के बाद ही किया जा रहा था। इधर एसपी के आश्वासन पर लोगों की निगाहें अब कार्रवाई पर टिकी है कि पुलिस एकबार फिर पुलिसिया दबंगई मामले में कार्रवाई करती है या फिर लीलापोती करने की कलाकारी दिखायेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button