हथुआ स्टेट के राजा ने किया जंगली बाबा धाम कठौड़ा में दर्शन पूजन

100 साल पहले बाबा के आशीर्वाद से आगे बढ़ा हथुआ स्टेट के नरेश का बंशज , गांव वालों से जमीन दान मांगकर कराया था मन्दिर का निर्माण .

(धीरज कुमार मिश्र)

सिकंदरपुर (बलिया )स्थानीय तहसील अंतर्गत स्थित जंगली बाबा धाम कठौड़ा के दर पर बुधवार की सायं बिहार के हथुआ स्टेट के राजा बहादुर मृगेंद्र प्रताप शाही ने सपरिवार दर्शन कर बाबा से आशीर्वाद मांगा । वही मंदिर में 2 घंटे का समय व्यतीत किया । पूरे राजशाही व्यवस्था के साथ पहुंचे महाराजा ने मंदिर के रखरखाव के बारे में वहां के पुजारी महामंडलेश्वर ब्रह्मचारी जी महाराज से जानकारी प्राप्त किया । राजा के आगमन की सूचना पर कठौड़ा गांव के सैकड़ों लोगों सहित इलाकाई लोगो ने भी पहुंच राजा से मुलाकात किया । ज्ञात हो कि जंगली बाबा के मंदिर का निर्माण सन 1931 में हथुआ राज की रानी ज्ञानमंजरी ने बाबा के आशीर्वाद से पुत्र रत्न प्रप्त होने के बाद कराया गया था ।

उस समय रानी ज्ञानमंजरी को कोई संतान की प्राप्ति नहीं हो रही थी किसी ने उनसे बताया कि उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में कठौड़ा गांव में एक महान संत जंगली बाबा हैं अगर उनका आशीर्वाद आपको मिल जाए तो आपको पुत्र रत्न की प्राप्ति हो सकती है लोगों के बताने पर रानी ने लगातार 2 सालों तक बाबा का दर्शन करती रही इसी दौरान उनको पुत्र रत्न की प्राप्ति होने पर वहां के राजा द्वारा इस मंदिर का निर्माण 1931 में कराया गया । उसके बाद से ही इस मंदिर पर आने जाने वाले लोगों की आस्था बढ़ती गई और इस मंदिर के नाम पर 52 बीघा जमीन रानी ने कठौड़ा गांव के लोगों से मंदिर के निर्माण के लिए जमीन दान में लेकर इस मंदिर का निर्माण कराया था दिया तब से लेकर आज तक इस मंदिर की देखरेख की जानकारी लेने के लिए हथुआ के राजा आते जाते रहते हैं । तथा आज भी मन्दिर का कोई भी कार्य बिना राजा की अनुमति से नही किया जाता है । इसके दो साल पहले राजा बहादुर मृगेंद्र प्रताप शाही ने अकेले आकर दर्शन पूजन किया था । इस दौरान हथुआ के युवराज कौस्तुभमणि प्रताप शाही, मन्दिर के पुजारी व नृसिंह आश्रम विंध्याचल के महंथ महामंडलेश्वर ब्रम्हचारी जी महाराज,जिला पंचायत सदस्य अनन्त मिश्रा, सोनू राय, नन्हे दुबे,छोटक चौधरी सहित गांव वासी उपस्थित रहे ।

समय समय पर आते रहते है हथुआ स्टेट के राजा सिकन्दरपुर (बलिया) इस सम्बंध में जंगली बाबा धाम के पुजारी महामंडलेश्वर ब्रम्हचारी जी महाराज ने बताया कि समय समय पर मन्दिर के निर्माण कर्ता के बंशज मन्दिर का हाल चाल लेने के लिए आते रहते है । उन्ही के सहयोग से इस मंदिर की ब्यवस्थाये चलती है और गांव के लोग भी सहयोग करते है । कहा कि उन्होंने राजा बहादुर मृगेंद्र प्रताप शाही से मन्दिर की ब्यवस्थाओ को बढ़ाने और इसको सुसज्जित करने की मांग किया । जिस पर राजा द्वारा उन्हें आश्वाशन दिया गया ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button