जो सही है उसे त्वरित न्याय मिले: जिलाधिकारी

सिकंदरपुर तहसील में संपूर्ण समाधान दिवस पर सुनी जनता की फरियाद ,कुल आए 143 मामलों में 10 का कराया मौके पर निस्तारण .

सिकन्दरपुर (बलिया) संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन मंगलवार को सभी तहसीलों में हुआ। जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने सिकंदरपुर में जनता की फरियाद सुनी। उनके सामने कुल 143 शिकायती प्रार्थना पत्र आए, जिनमें 10 का मौके पर निस्तारण कराया। शेष शिकायतों को संबंधित अधिकारियों को सौंपते हुए निर्देश दिया कि समयांतर्गत व गुणवत्तापरक निस्तारण सुनिश्चित कराएं। यही नहीं, दर्जन भर शिकायतों के एकाध दिन में ही निस्तारण के लिए जिलाधिकारी ने अलग विभाग के अधिकारियों को टीम के साथ मौके पर भेजा। कहा, यथास्थिति को देखकर रिपोर्ट दें, ताकि शीघ्र समाधान हो और फरियादी सन्तुष्ट हो जाए।

जिलाधिकारी ने कहा कि संपूर्ण समाधान दिवस की महत्ता बरकरार रखने के लिए जरूरी है कि इसमें आई शिकायतों को पूरी गंभीरता से लिया जाए। प्रयास हो कि मौका-मुआयना करके हप्ते दिन में समाधान कर दिया जाए। समाधान ऐसा हो कि शिकायतकर्ता उससे पूरी तरह संतुष्ट हो। कुल मिलाकर जो सही है, उसे त्वरित न्याय मिलना चाहिए। संपूर्ण समाधान दिवस के दौरान राशन, पेंशन, अवैध कब्जा, अतिक्रमण, राजस्व व पुलिस से जुड़े अधिकांश मामले आए। अवैध कब्जा या अतिक्रमण जैसी शिकायत पर जिलाधिकारी ने कहा कि राजस्व व पुलिस विभाग की टीम मिलकर निस्तारण कराए। थाना समाधान दिवस भी ऐसी शिकायतों का निपटारा कराने पर जोर दिया। इस दौरान एसपी देवेंद्र नाथ, एसडीएम अभय कुमार सिंह, तहसीलदार शिवनारायण वर्मा, डीडीओ शशिमौली मिश्रा, बीएसए शिवनारायण सिंह, डीएसओ केजी पांडेय समेत अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

क्रय केंद्रों का हाल जानने को भेजी आधा दर्जन टीमें

सिकन्दरपुर(बलिया) सम्पूर्ण समाधान दिवस पर तहसील सभागार में पहुंचते ही जिलाधिकारी ने धान क्रय केंद्रों की सूची मांगी, लेकिन डिप्टी आरएमओ उपस्थित ही नहीं थे। इसके बाद उन्होंने तहसील क्षेत्र में क्रय केंद्रों की स्थिति जानने के लिए अधिकारियों की अलग-अलग टीम बनाई और गांवों में भेजा। एक टीम को तीन या चार गांव दिए गए। उन्होंने निर्देश दिया कि क्रय केंद्र पर तराजू व अन्य व्यवस्था हो गयी है या नहीं, इनको देख कर रिपोर्ट दें। मिल व गोदाम की स्थिति भी देख लेंगे। इसके अलावा जल निगम के इंजीनियर से सिकन्दरपुर के आसपास की पेयजल योजनाओं और वहां तैनात जेई व अन्य स्टाफ से सम्बंधित जानकारी ली।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button