आरोप पत्र सार्वजनिक नहीं किया जा सकता: सुप्रीम कोर्ट – CMG TIMES


नयी दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि आरोप पत्र सार्वजनिक नहीं किया जा सकता।न्यायमूर्ति एम. आर. शाह और न्यायमूर्ति सी. टी. रविकुमार की पीठ ने पत्रकार सौरव दास की एक जनहित याचिका खारिज करते हुए कहा कि प्राथमिकी की तरह आरोप पत्र सार्वजनिक दस्तावेज नहीं है। इसे प्राथमिकी की तरह वेबसाइट पर …

The post आरोप पत्र सार्वजनिक नहीं किया जा सकता: सुप्रीम कोर्ट appeared first on CMG TIMES.



Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *