शहीद रामानुज के 37वां बलिदान दिवस 7 को

कोरोनाकाल में होगा संक्षेप आयोजन, नहीं लगेगा शहीदी मेला

बलियाः शहीद रामानुज के 37वें शहादत दिवस पर आगामी 7 सितंबर को रसड़ा तहसील के प्रधानपुर गांव के समीप बखरियाडीह बांध स्थित शहीद स्थल पर शहीद मेला एवं श्रद्धांजलि सभा का आयोजन होगा। जिसकी भव्य तैयारी हेतु स्थानीय शालीमार मैरिज हाल में बुधवार को आयोजन मंडल द्वारा प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के संयोजक ग्राम प्रधान व प्रधानसंघ के जिलाध्यक्ष राधेश्याम यादव ने कहा कि प्रधानपुर जैसे पिछड़े गांव के एक सामान्य परिवार में जन्मे शहीद रामानुज ने पीड़ित मानवता की सेवा के लिए कुर्बानी दी। वे मानव सेवा के सच्चे साधक थे। बताया कि आज से 37 वर्ष पूर्व न्याय के संघर्ष में शहीद हुए रामानुज का शहादत दिवस इस वर्ष वैश्विक महामारी कोविड 19 कोरोना को देखते हुए शासन की गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए संक्षिप्त रूप से मनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि श्रद्धांजलि कार्यक्रम के मुख्य अतिथि शहीद रामानुज के प्रमुख सहयोगी रहे सीबी सिंह संरक्षक क्रांतिकारी स्मारक समिति व राष्ट्रीय अध्यक्ष इंडिया क्रांतिकारी वामपंथी मोर्चा होंगे। साथ ही श्रद्धांजलि सभा में सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल करते हुए विभिन्न राजनीतिक दल के नेताओं, समाजसेवियों को भी आमंत्रित किया गया है। उन्होंने कहा कि पूर्व की भांति इस वर्ष शहीद मेला में मेला व सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं होगा ताकि लोगों का जमावड़ा ना हो सके। उन्होंने शहीद रामानुज को चाहने वाले लोगों से अपील की है कि वे अपने घरों में ही शहीद रामानुज को श्रद्धासुमन अर्पित कर अपनी भावपूर्ण श्रद्धांजलि दें। इस मौके पर श्याम नारायण यादव गांधी, सुरेश राम, बृजेश यादव, कृष्णानंद पांडेय, शकील अहमद, हरिंदर यादव, सुरेश तिवारी व डॉ. शीतल प्रसाद गुप्ता आदि रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button