स्वदेशी चरखा को हथियार बनाकर अंग्रेजो को किया देश से बाहर – रविन्द्र कुशवाहा

देश के प्रधानमंत्री ने गांधी के सपनो को किया साकार

सिकंदरपुर(बलिया) गांधी इंटर कॉलेज सिकंदरपुर के प्रांगण में गांधी जयंती के अवसर पर आयोजित ‘गांधी का स्वदेशी आंदोलन एवं मोदी का आत्मनिर्भर भारत ‘ विचार गोष्ठी को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय सांसद रविंद्र कुशवाहा ने कहा कि गांधी जी ने देश की आजादी की लड़ाई के दौरान स्वदेशी आंदोलन का सूत्रपात कर देश की जनता में राष्ट्रीयता का भाव पैदा किया तथा देशी उत्पाद की उपयोगिता पर बल देकर आत्म निर्भर एवं स्वाभिमानी समाज की बुनियाद डाली। जहां एक तरफ विदेशी सामानों के बहिष्कार का नारा दिया वही चरखा को आजादी का हथियार बनाकर ब्रिटेन के लंका शायर की कपड़ा मिलों को चुनौती दी । क्षेत्रीय विधायक संजय यादव ने कहा कि मोदी सरकार गांधी के विचारों के अनुरूप आत्मनिर्भर भारत का नारा देकर देशी उत्पाद को बढ़ाने तथा उसके उपयोग का आवाहन किया। विदेशी सामान विशेषकर चाइनीज सामानों के उपयोग से जहां हमारी आर्थिक व्यवस्था प्रभावित होती है वही हमारे परंपरागत उद्योग धंधे बंद हो रहे हैं। पूर्व मंत्री राजधारी ने बताया कि गांधी जी मौलिक चिंतक थे स्वदेशी भावना के बाहक थे उनके कथनी और करनी में एकरूपता थी । गांधी जी ने जो बताया कि मनुष्य की सार्थकता जानने में नहीं करने में है परंपरागत देशी उद्योग धंधों के पक्षधर थे स्वरोजगार के साथ-साथ आत्मनिर्भरता का साधन मानते थे मोदी जी ने लोकल वस्तुओं के लिए वोकल बनने तथा उसके उपयोग की वकालत पर आत्मनिर्भर भारत का संकल्प लिया है इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं। विचार गोष्ठी को प्रमुख रूप से सुरेश सिंह, रामायण सिंह, संजय राय, विद्यासागर उपाध्याय, मोहन कांत राय ,बैजनाथ पांडे, अखिलेश राय, गिरजेश मिश्र ,सुरजीत सिंह ,प्रमोद गुप्ता सुदामा राय, रियाज अहमद ,शोभन राजभर, गणेश सोनी, मुन्ना राय, ओम प्रकाश यादव, नसीम, दयाशंकर भारती ,भुवाल सिंह, लक्ष्मी शंकर सिंह ,अशोक सिंह ,राधेश्याम यादव ,पीएन सिंह आदि लोगों ने संबोधित किया गोष्ठी की अध्यक्षता अरविंद राय तथा संचालन भोला सिंह ने किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button