जिपं सदस्य का मुख्तार गैंग कनेक्शन ढूंढने वाली पुलिस ने साधी चुप्पी!

उभांव पुलिस की चुप्पी से उठ रहे कई सवाल

बलियाः बिल्थरारोड में मुख्तार गैंग से जिलापंचयत सदस्य का कनेक्शन जोड़ने का दावा करने वाले उभांव पुलिस ने अब चुप्पी साध लिया है। जिलापंचायत अध्यक्ष चुनाव के दिन तक पुलिस लगातार वार्ड सं. 28 के निर्दल जिलापंचयत सदस्य और कांग्रेसी नेता जर्नादन यादव के पीछे पड़ी थी। पुलिस हर दिन जिपं सदस्य के घर अखोप गांव में दबिश दे रही थी किंतु जिपं अध्यक्ष का चुनाव बीतने और जनपद में भाजपा के करारी हार के बाद उभांव पुलिस इस मामले में अब चुनाव गई-बात गई की मुद्रा में दिखने लगी है। इस पर पुलिस कुछ भी कहने से कतरा रही है।

तो चुनावी खेल का ही हिस्सा था पुलिसिया एक्शन!
पुलिस की चुप्पी से अब तक के पुलिसिया एक्शन पर सवाल उठने लगे है और यह चर्चा तेज हो गई है कि जिपं सदस्य के खिलाफ हाथ धो कर पड़ी उभांव पुलिस का एक्शन क्या राजनीतिक दबाव में चुनावी खेल का हिस्सा था। जिपं अध्यक्ष चुनाव के बाद अब जिपं सदस्य जनार्दन यादव भी अपने गृह क्षेत्र में सामान्य तरीके से रह रहे है। जबकि चुनाव पूर्व तक पुलिस के दबिश के कारण इनका जीना मुश्किल हो गया था।


मुख्तार गैंग कनेक्शन ढूंढने वाली पुलिस ने साधी चुप्पी
जिलापंचायत अध्यक्ष चुनाव के दिन तक माफिया डान मुख्तार अंसारी और उनके पुत्र अब्बास अंसारी के साथ पुरानी फोटो के आधार पर उभांव इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्र लगातार जिपं सदस्य जनार्दन यादव का मुख्तार गैंग कनेक्शन होने का दावा कर रहे थे और उनके घर दबिश भी दे रहे थे। पुलिसिया कार्रवाई के भय से परिजन कई दिन तक घर छोड़ने को मजबूर हो गए थे। पुलिस ने मणिपुर नंबर की एक संदिग्ध स्कार्पियों गाड़ी भी पकड़ा था और इसे सीज भी कर दिया किंतु अब तक पुलिस इस स्कार्पियों की भी किसी अपराधिक घटना में संलिप्तता साबित नहीं कर सकी है।


उन दिनों जनार्दन ने फेसबुक को ही बनाई अपनी आवाज
जिलापंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर बलिया में चल रहे खेल का शिकार हुए जिलापंचायत सदस्य जनार्दन ने पुलिसिया दबाव से बचने में अपना पक्ष रखने के लिए फेसबुक को ही अपनी आवाज बना लिया था। पूरे मामले में जिला पंचायत सदस्य जनार्दन यादव उन दिनों पुलिस से बचने के लिए क्षेत्र से बाहर ही थे और फेसबुक के सहारे पोस्ट कर अपना पक्ष रख रहे थे। जनार्दन यादव लगातार मुख्तार गैंग के अपराधिक कनेक्शन के पुलिस के दावा को गलत और झूठा बता रहे थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *