नालीविहीन अटवां गांव में जलनिकासी की समस्या का निकला स्थायी हल

बलियाः जनपद के सीयर ब्लाक के तुर्तीपार ग्रामपंचायत में नालीविहीन अटवां गांव को जलनिकासी का स्थायी हल निकाल लिया गया। प्रधान आलोक सिंह के पहल पर गांव में गंदे पानी, कीचड़ व सड़ांध से बजबजाते मार्ग पर न सिर्फ नाली बनाने का रास्ता साफ हुआ बल्कि आपसी सहमति से रास्ते में दो लोगों के मकान के एक बड़े कमरे को भी गिराकर रास्ते को सीधा कर दिया गया। जिससे ग्रामिणों ने राहत की सांस ली है। मनरेगा के तहत हुए उक्त विकास कार्यों से तो गांव की तस्वीर ही बदल गई है। दशकों पूर्व बसे गांव के अटवां टोला में जलनिकासी की कोई व्यवस्था ही नहीं थी। इधर भारी बारिश से जलजमाव से करीब तीन सौ की आबादी वाले राजभर समाज की जिंदगी नरकीय हो गई थी। जहां सड़क से बारिश का पानी उतरते ही नाली व सड़क का निर्माण शुरु हो गया है। तुर्तीपार प्रधान आलोक सिंह की पहल पर उक्त अटवां गांव के मुख्य मार्ग में बने बुद्धिराम राजभर व अमीरचंद्र राजभर की सहमति से एक-एक पूरा कमरा ही तोड़ा गया। वहीं पास के संतोष राजभर ने रास्ते के लिए स्वेच्छा से चार फीट की अपना चबुतरा भी तोड़ दिया। ग्रामिणों ने बताया कि उक्त निर्माण स्थल पर करीब दो सौ फीट में गजब की गलीज स्थिति थी। सभी के घर के बाहर रास्ते में ही गंदा पानी इकट्ठा होता था। उक्त सड़क व नाली को लेकर ग्रामीणों में जबरदस्त उत्साह व खुशी है। प्रधान आलोक सिंह ने बताया कि मनरेगा से करीब पौने चार लाख की लागत से लगभग 625 फीट नाली व 150 मीटर का पक्का रास्ता का निर्माण जारी है। जो जल्द ही पूरा हो जायेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button