सरकार के आदेश के बावजूद भी नहीं खुले धान क्रय केन्द्र

किसान धान की फसल को विचौलियों के हाथों में बेचने को मजबूर

सिकन्दरपुर (बलिया) प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की फसल को सीधे खरीदे जाने हेतु निर्देश के बावजूद भी स्थानीय तहसील क्षेत्र में स्थापित धान क्रय केंद्रों पर अब तक धान की खरीद न होने से किसान मायूस है । वही रवि की फसल की बुवाई हेतु आवश्यक पैसे के लिए विचौलियों के माध्यम से अपने धान को औने पौने दाम पर बेचने को विवश है। सरकार द्वारा किसानों के हितों में आदेश तो कर दिए जा रहे हैं लेकिन इसके क्रियान्वयन हेतु कोई भी अधिकारी सक्रिय भूमिका नहीं निभा रहा है जिससे किसानों को न तो इसका लाभ मिल पा रहा है और किसानों में सरकार के प्रति आक्रोश व्यक्त होता जा रहा है ।

शासन के निर्देश के बावजूद भी ब्लाक नवानगर व पन्दह के ग्रामीण अंचलों में एक भी क्रय केन्द्र नहीं खुल सके हैं। किसानों की फसलें कट रही हैं व बिचौलिया गांवों में सक्रिय दिख रहे हैं। हर गांवों में धान की कटाई शुरू हो गयी है । और धान की कटाई कर किसान अपने दरवाजे पर धान रखकर क्रय केंद्रों का चक्कर काट रहे हैं बावजूद इसके किसानों की धान नहीं खरीदा जा रहा है ।सरकारी धान खरीद हेतु बने क्रय केन्द्र बंद पड़े हुए हैं। किसानों का कहना है कि क्रय केन्द्र खुल जाते तो धान का रेट नीचे नहीं गिरता पर अधिकारियों की अदूरदर्शिता के चलते किसान हर वर्ष ठगा जाता है व बिचौलिये द्वारा खरीदे गये धान को ही क्रय केन्द्रों के माध्यम से खानापूर्ति की जाती है। क्षेत्रीय किसानों ने जनहित में अविलंब क्रय केन्द्रों को खोले जाने की मांग की है। क्रय केंद्र खुलने से किसान अपनी फसल 1000 से 1200 के बीच प्रति कुंतल के हिसाब से बेचने को विवश है । संबंध में उप जिलाधिकारी सिकंदरपुर अभय कुमार सिंह ने बताया कि धान की खरीदारी करने हेतु धान क्रय केंद्र के कर्मचारियों को आदेश निर्गत कर दिए गए हैं अगर कहीं से कोई शिकायत आती है तो संबंधित के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी ।

तहसील क्षेत्र में आवंटित है चार धान क्रय केंद्र

सिकन्दरपुर (बलिया) स्थानीय तहसील क्षेत्र में कुल पांच धान क्रय केंद्र आवंटित किए गए है । जिसमे एग्रो बहेरी, पीसीएफ बहेरी,पीसीएफ पुर,पीसीएफ सिकन्दरपुर बनाया गया है । बावजूद इसके किसी भी धान क्रय केंद्र पर अब तक धान की खरीद नही शुरू हो सकी है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button