लाठीबाज एसडीएम के शिकार रजत को आईएएस बनने की चाह, युवाओं का बना चहेता

इंजीनियर बंधु है चौरसिया भाई, मानवाधिकार की आवाज की बुलंद

विजय बक्सरी

बलियाः बेवजह लाठी बरसाने वाले बिल्थरारोड के तत्कालीन एसडीएम अशोक चैधरी के क्रूरता का जवाब शालीनता से देने वाले बिल्थरारोड के दो युवा  चौरसियाबंधुओं ने मानवाधिकार की आवाज बुलंद की है और आरोपी अधिकारी व होमगार्ड को सजा मिलने तक संघर्ष करने का ऐलान किया है। जिससे अनेक संगठन के युवा साथिओं ने भी उक्त युवाओं के आवाज को अपना साथ देकर संघर्ष को और मजबूत बना दिया है। तत्कालीन एसडीएम के बर्बरता के शिकार रजत चौरसिया यू तो आईएएस बनना चाहते है और इसकी वे तैयारी भी कर रहे है किंतु फिलहाल वे बीटेक पूरा करने के बाद पिछले एक साल से गुड़गांव हरियाणा में एक आटोमोबाइल कंपनी में तैनात है। वहीं उनका छोटा भाई भी बीटेक करने के अंतिम पावदान पर है। दोनों चौरसिया बंधु अपने पिता के भोजन हेतु घर जाने के कारण अपने दुकान पर थे। इनमें एक ने मास्क लगाया था, जबकि दूसरे ने चेहरे पर रुमाल बांधा था। बावजूद तत्कालीन एसडीएम अशोक ने अपने होमगार्ड की मदद से मास्क चेकिंग अभियान के नाम पर उक्त युवकों को दुकान से बाहर खींचकर जमकर पिटाई कर दी। जिसका विडियो भी वायरल हो गया। तत्कालीन एसडीएम एवं उनके होमगार्डों के बर्बरता का शालीनता से विरोध करते हुए  चौरसिया बंधु ने कई लाठी खाएं। इस संदर्भ में वायरल विडियो में वर्दीधारी होमगार्ड व एसडीएम के दबंगई को देख जहां हर किसी ने घटना की निंदा की। वहीं विडियो में युवा चौरसिया बंधु रजत व आसु अधिकारियों से लगातार अपनी गलती के बाबत पूछते हुए अपने अधिकारों की बात कर रहे है। जिसके कारण दोनों चौरसिया बंधु की शालीनता की जमकर प्रशंसा हो रही है। एसडीएम व होमगार्ड से बेवजह लाठी खाने वाला युवा रजत चौरसिया यूपी बोर्ड से इंटर पास होने के बाद गाजीयाबाद से बीटेक कर गुड़गांव के एक आटोमोबाइल कंपनी में बतौर ट्रेनी इंजीनियर की नौकरी कर रहा है और अपनी सेलरी से ही यूपीएससी सिविल सर्विसेज की तैयारी में लगा है। जो आईएएस बनना चाहता है। जबकि छोटा भाई आसु चौरसिया भी वर्तमान में गाजीयाबाद से ही बीटेक कर रहा है। एसडीएम के लाठी के शिकार हुए चौरसिया बंधुओं की पिटाई संबंधित वायरल विडियो में भी दोनों युवाओं ने अधिकारियों के लाठी से अपनी सुरक्षा तो कर रहे है किंतु दोनों भाईयों ने पलटकर हिंसक जवाब नहीं दिया है और अब उनके घर पूरे दिन विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं, व्यापारी संगठन के पदाधिकारियों व सामाजिक नेताओं के आने-जाने व हाल चाल लेने वालों की होड़ लगी है। हर कोई दोनों युवाओं का हौसला बढ़ा रहे है। पीड़ित चौरसिया बंधुओं ने  को बताया कि बेवजबह अधिकारी के लाठी से तो वे पीटे गए। विडियो देख सीएम योगी आदित्यनाथ ने त्वरित कार्रवाई करते हुए एसडीएम को निलंबित भी कर दिया किंतु किताबों में वे जिस मानवाधिकार की बात पढ़ते है, वह धरातल पर नहीं दिखती। कहा कि मानवाधिकार हनन को लेकर ऐसे निरंकुश अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई में प्रशासनिक चुप्पी लोकतंत्र के लिए सबसे बड़़ा खतरा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button