बलिया में पुलिस की लापरवाही से हुई पत्रकार रतन सिंह की हत्या

कलमकारों ने दिखाई एकजुटता, हुआ चक्काजाम

बलियाः बलिया मे एसपी देवेंद्रनााथ के पुलिसिंग को खुलेआम चुनौती देते हुए बेलगाम बदमाशों ने सोमवार की देर शाम फेफना के पास सहारा समय टीवी चैनल के युवा पत्रकार रतन सिंह को गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक पत्रकार रतन सिंह के वियोग में बिलखते पिता विनोद सिंह घटनास्थल पर चीख-चीख कर हत्याकांड के लिए पुलिस की लापरवाही को मुख्य कारण बता रहे थे। बताया कि उनके विरोधियों ने गांव के प्रधान से मिलकर मोबाइल फोन से उनके बेटे रतन को बुलाया और विरोधियों के साथ घेरकर मारने लगे।

घटनास्थल के समीप से ही फेफना थानाध्यक्ष शशिमौली की गाड़ी भी पहुंची किंतु दूर से ही विवाद देख थानाध्यक्ष सरक गए और उनके बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई। जिससे पुलिस प्रशासन के खिलाफ परिजनों में जबरदस्त आक्रोश व्याप्त था। वहीं मंगलवार की दोपहर पत्रकार रतन सिंह के शव का पोस्टमार्टम होने के बाद फेफना आवास पर शव आते ही पत्रकारों का आक्रोश फूट पड़ा।

पत्रकारहत्या के खिलाफ कलमकारों ने जबरदस्त एकजुटता दिखाते हुए पुलिसिया रवैया के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया और फेफना के समीप बलिया-रसड़ा मुख्य मार्ग को जामकर दिया। पत्रकार रतन सिंह हत्याकांड में पुलिस द्वारा हो रहे हीलाहवाली की पत्रकारों ने विरोध किया और डीआईजी आजमगढ़ व एसपी बलिया द्वारा मामले को हल्के में लेते हुए शासन को गुमराह करते हुए भूसा व पुआल वाले बयान की जमकर निंदा की। पत्रकारों ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने, परिजनों के नाम शस्त्र लाइसेंस निर्गत करने, मृतक पत्रकार की पत्नी को सरकारी नौकरी देने एवं हत्यारों पर रासुका समेत गंभीर धाराओं में कार्रवाई करने की मांग को लेकर जमकर आवाज बुलंद किया।

चक्का जाम के दौरान पीड़ित पत्रकार परिवार की तरफ से वरिष्ठ पत्रकार रंजीत सिंह, मनोद चतुर्वेदी, अनुप हेमकर, रोशन जायसवाल आदि ने मांगों को रखा। इस दौरान पत्रकार पशुपतिनाथ, धनंजय सिंह, संजीव कुमार गुप्ता, मधुसुदन सिंह, हरिनारायण मिश्र रणजीत, राजेश सिंह, अजय राय, सुनील सिंह गुडलक, अनिल अकेला, अखिलेश सिंहा, करुणा सिंधु सिंह, नरेंद्र मिश्र, आशिष जैदी, विवेक जायसवाल, आलोक कुमार, राणा प्रताप सिंह, मुकेश मिश्र, संजय तिवारी, दिग्विजय सिंह, ब्रजेश सिंह, अमित सोनी, अजय भारती, केके सिंह, रत्नेश सिंह, सर्वेंद्र सिंह, केकेपांडेय, मृत्युंजय सिंह, विजय मद्धेशिया, ए समद भाई, अरविंद यादव, धीरज मद्धेशिया, संजीव कुमार उर्फ उमेश बाबा, संजय ठाकुर, भगवान पांडेय, प्रमोद कुमार समेत बड़ी संख्या में पत्रकार मौजूद रहे।

तीन घंटे बाद प्रभारी डीएम ने दिया भरोसा, हटा जाम

– करीब तीन घंटे तक बलिया-रसड़ा मुख्य मार्ग जाम होने के बाद प्रभारी डीएम/एडीएम रामाश्रय व एसपी देवेंद्रनाथ ने उच्चाधिकारियों से वार्ता के बाद पीड़ित परिवार व पत्रकारों के बीच मांगों के संदर्भ में प्रशासन का पक्ष रखा और पीड़ित परिवार के घर तत्काल सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाते हुए सिपाही तैनात कर दिए गए। अधिकारी द्वय ने शासन के आश्वासन पर पीड़ित परिवार के एक सदस्य को संविधा के तहत सरकारी नौकरी देने एवं संबंधित थाना के सभी पुलिसकर्मियों की मामले में लापरवाही की जांच के बाद कार्रवाई का भरोसा दिया। जिसके बाद जाम हटा और देर रात बलिया घाट पर अंतिम संस्कार किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button