बिल्थरारोड विपणन विभाग के क्रय केंद्र पर पहले तौल को लेकर किसान परेशान, जिम्मेदार गायब

बलियाः जनपद बलिया के बिल्थरारोड कृषि मंडी में विपणन विभाग के गेहूं क्रय केंद्र पर शनिवार की सुबह 11 बजे तक कोई भी सक्षम अधिकारी नहीं थे। जबकि पहले तौल कराने को लेकर किसान आपस में ही झगड़ते रहे। विभाग द्वारा किसानों का गेहूं खरीदने को लेकर पहले से नंबर लगवाया गया है किंतु मौके पर अक्सर अधिकारियों के न होने के कारण किसान आपस में ही झगड़ते रहते है और विभागीय कर्मचारी अपनी मनमानी करने से बाज ही नहीं आते। शनिवार को अधिकारियों द्वारा लगाएं गए नंबर के आधार पर 12 जून के लिस्ट में नाम होने का दावा करते हुए फरसाटार गांव के किसान अपना गेहूं लेकर तौल कराने को पहुंचे थे।

जबकि कुछ अन्य किसानों ने विगत 8 और 11 जून के लिस्ट में अपना नाम होने के बावजूद अब तक तौल न होने का दावा करते हुए पहले अपना गेहूं तौल कराने का दबाव देने लगे। जिससे उक्त किसानों के बीच जमकर तूतूमैंमैं हुआ। करीब एक घंटे तक किसानों के बीच चले बकझक और तूतूमैंमैं से मंडी परिसर में तनाव की स्थिति बनी रही। जिसकी शिकायत किसानों ने मोबाइल से एसडीएम सर्वेश यादव को दी। जिनके निर्देश और फटकार के बाद विभागीय कर्मचारी मौके पर पहुंचे किंतु किसानों के उक्त समस्या का हल करने में बेबस दिखे।

विपणन निरीक्षक गौरव कुमार ने बताया कि सरकार द्वारा गेहूं क्रय केंद्र पर गेहूं खरीदने का लक्ष्य सीमित कर दिए जाने के बाद प्रतिदिन गेहूं तौल की क्षमता भी कम हो गई है। इस बार गेहूं क्रय की अंतिम तिथि फिलहाल 15 जून है। जबकि अभी सैकड़ों किसानों का मंडी केंद्र पर नंबर लगा है। कोशिश की जारी है कि उच्चाधिकारियों से वार्ता के बाद अधिकांश किसानों का गेहूं खरीद किया जा सके। आपको बता दें कि गेहूं क्रय केंद्र पर शासन द्वारा अचानक बदले गए नियम और 15 जून तक गेहूं क्रय की अंतिम तिथि तय होने के बाद किसानों की फजीहत कम होने का नाम नहीं ले रही है। ऊपर से विभागीय कर्मचारियों की लापरवाही और मनमानी से निपटना किसानों के लिए किसी जंग जीतने से कम नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *