बलिया में फर्जी निवास व पहचान के बूते गुरुजी बने नटवरलाल है फरार, ढूंढ रहा विभाग

बलिया: फर्जी निवास व पहचान के बूते बिल्थरारोड के परिषदीय स्कूलों में वर्षों गुरु जी बने दो नटवरलाल का विभाग ने भले ही सेवा समाप्त कर दिया किंतु आहरित वेतनधन वसूली को विभाग इन्हें ढूंढ रहा है और दोनों फर्जी गुरु फरार है। आरोपी दोनों कथित गुरु मामा भांजा बताएं जा रहे है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के निर्देश पर अब सीयर खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा दोनों आरोपित कथित शिक्षक पर मुकदमा दर्ज करने की तैयारी तेजी से जारी है।

सीयर एसडीआई सुरेंद्र नाथ त्रिपाठी ने बताया कि सीयर शिक्षा क्षेत्र के ककरासो में सुरेश चंद्र नाम से कार्यरत तत्कालीन सहायक अध्यापक की सेवा समाप्त कर दी गई है। जो इसी शिक्षा क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय तुर्तीपार नं. एक पर 15 मई 1999 को नियुक्त हुआ था। जिसकी जांच में नाम, पता व जाति पूरी तरह से फर्जी पाया गया है। उक्त कथित शिक्षक सुरेशचंद्र का मूल नाम रामकृपाल चैहान है। जबकि सेवापुस्तिका के अनुसार इसका नाम सुरेश चंद्र पुत्र लल्लन प्रसाद ग्राम भलुअनी थाना भलुअनी रायपुरा तहसील बरहज सलेमपुर देवरिया निवासी जन्मतिथि 1 जून 1968 है। जिसकी जांच में जाति प्रमाणपत्र व निवासप्रमाण पत्र के साथ ही पहचान भी फर्जी पाया गया है।

वहीं भीमपुरा थाना के डफलपुरा में भी सहायक अध्यापक पद पर कार्यरत हृदयनारायण की भी पहचान, जाति व निवास प्रमाण पत्र फर्जी मिला है। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर इनकी सेवा समाप्त कर दी गई है। नियुक्ति काल से आहरित वेतन के वसूली की प्रक्रिया शुरु की जा रही है। जिनके खिलाफ कूटरचित अभिलेखों के आधार पर नियुक्ति पाने के आरोप में संबंधित धाराओं में उभांव व भीमपुरा थाना में मुकदमा दर्ज कराने की प्रक्रिया तेजी से जारी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button