पक्के पुल के धीमी गति के निर्माण पर पहुंचे जिलाधिकारी ने लगाई सेतु निगम के अधिकारियों की क्लास

निर्माण में धांधली का लगता रहा है आरोप ,एक साल पहले दो पुल टेंडे होने पर उपमुख्यमंत्री ने दिया था जांच का आदेश

सिकंदरपुर (बलिया ) समाधान दिवस के बाद मंगलवार को जिलाधिकारी ने उत्तर प्रदेश और बिहार को जोड़ने वाले खरीद दरौली पक्के पुल का निरीक्षण कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया इस दौरान उन्होंने कहा कि सरकार के निर्देश होने के बावजूद भी कार्य को धीमी गति से न कराया जाए इसमें तेजी लाते हुए तय समय तक इसको पूर्ण करा लिया जाए जिलाधिकारी श्री हरी प्रताप शाही ने पक्के पुल के निर्मित हो रहे और पायो का निरीक्षण किया और निर्माणाधीन अप्रोच में तेजी लाने के साथ है विभाग पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को किसानों की ली गई जमीन का तत्काल भुगतान करने का भी निर्देश दिया ।

ज्ञात हो कि वर्ष 2016 से ही निर्मित हो रहे इस पक्के पुल के निर्माण को लेकर हमेशा ही उंगली उठती रही है जिससे की मानक के अनुरूप कार्य ना होने का आरोप भी लगता रहा है बावजूद इसके सेतु निगम द्वारा कार्य में कोई तत्परता नहीं दिखाई जा रही है न हीं मौके पर कोई इंजीनियर रहकर ही कार्य कराता है मंगलवार को पहुंचने जिलाधिकारी के पहुंचने की सूचना पर सभी अधिकारी व कर्मचारी मुस्तैद दिखे । उन्होंने बिहार के तरफ बनने वाले 500 मीटर के अप्रोच के निर्माण में आ रही बाधा के संबंध में अधिकारियों से वार्ता कर पीडब्ल्यूडी के अधिशासी अभियंता को निर्देश दिया कि तत्काल जमीन को उपलब्ध कराने हेतु मुआवजा किसानों को दिया जाए जिससे कि एप्रोच का निर्माण हो सके । उन्होंने टेंडे पुल के बारे में जानकारी लेते हुए उसको तत्काल ठीक कराने का निर्देश दिया पायो के निर्माण में गुणवत्ता के मानक को सही करने हेतु मौके का निरीक्षण कर यूपी बिहार की सरकार में आ ही समस्यायों का निराकरण तत्काल कराने का आश्वाशन भी दिया ।

दिसम्बर 2022 तक हो जाएगा पुल का निर्माण – परियोजना प्रबन्धक

सिकंदरपुर बलिया पक्के पुल के निर्माण का कार्य देख रहे सेतु निगम के परियोजना प्रबंधक संतराज ने बताया कि इस पुल में 30 पायो के निर्माण होना है । जिसमे से 25 पायो के निर्माण की प्रक्रिया चल रही है पक्के पुल को वर्ष 2022 तक निर्मित कर आम जनता के लिए चालू कर दिया जाएगा ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *