जनार्दन के समर्थन में कांग्रेसी नेता ने बलिया पुलिस को दी खुली चुनौती

पुलिस को कहा वर्दी वाला गुंडा

बलियाः माफिया मुख्तार अंसारी और शूटर अब्बास के साथ बलिया जनपद के जिलापंचायत सदस्य जनार्दन यादव के कनेक्शन की पुलिस की जांच से राजनीतिक बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा। वार्ड सं. 28 के निर्दल जिपं सदस्य जनार्दन यादव के समर्थन में अब कांग्रेस नेता नवनीत चैधरी ने कार्रवाई होते ही जनपद में राजनीतिक बवाल करने का बलिया पुलिस को खुली चुनौती दी है।

48 घंटे तक थानाध्यक्ष को थाने में घेरने की दी धमकी

स्वयं को पिछड़ा विभाग कांग्रेस पार्टी का प्रदेश महासचिव होने का दावा करते हुए नवनीत चैधरी ने मंगलवार को अहले सुबह फेसबुक पर लाइव आकर बलिया पुलिस और यूपी सरकार को जमकर ललकारा। नवनीत ने बलिया पुलिस को वर्दी वाला गुंडा, यूपी सीएम को माफिया और देश के गृहमंत्री को तड़ीपार तक कह डाला। साथ ही चैलेंज दिया कि बलिया पुलिस में दम है तो इन पर कार्रवाई करें।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1960882897410470&id=100004663351768

10 मिनट तक फेसबुक लाइव में खुब निकाला भड़ास

जिलापंचायत सदस्य जनार्दन यादव को कांग्रस पार्टी का इमानदार कार्यकर्ता और क्षेत्र का बड़ा समाजसेवी बताते हुए कहा कि अगर पुलिस ने जनार्दन यादव पर मुकदमा किया तो बलिया में दस हजार युवा साथियों के साथ उभांव थाना का घेरा करेंगे और थानाध्यक्ष को 48 घंटे तक बाहर नहीं निकलने देंगे। करीब 9.51 मिनट तक लाइव फेसबुक मैसेज में नवनीत ने बलिया पुलिस, यूपी सरकार पर जमकर अपना भड़ास निकाला और दावा किया कि माफिया मुख्तार अंसारी और उनके गैंग के साथ भाजपा के 50-60 भाजपा के बड़े नेताओं की फोटो उनके पास है। इन पर कार्रवाई पुलिस करेंगी।

जनार्दन के समर्थन में कांग्रेसी नेता ने बलिया पुलिस को दी खुली चुनौती

नवनीत ने दावा किया कि मोबाइल पर वार्ता के दौरान उभांव पुलिस ने उनके पैर तोड़ने की धमकी दी है। जिसके खिलाफ वे कोर्ट में जायेंगे। अब देखना यह है कि पुलिस का अगला कदम क्या होता है। बता दें कि मुख्तार अंसारी और अब्बास अंसारी के साथ निर्दल जिपं सदस्य जनार्दन यादव की मिली फोटो की जांच के दौरान उभांव पुलिस अब तक कई बार उनके गांव अखोप में दबिश डाल चुकी है। जबकि जनार्दन यादव अब तक अंडरग्राउंड है। जनार्दन के मणिपुर के एक संदिग्ध स्कार्पियों की भी पुलिस जांच कर रही है। हालांकि इस मामले में पुलिस के अब तक कार्रवाई के पीछे जिलापंचायत अध्यक्ष पद को लेकर बलिया में चल रहे राजनीतिक दबाव का आरोप लगता रहा है। पुलिस मामले में अब तक कोई भी कार्रवाई को लेकर अनिर्णय की स्थिति में है। उभांव थनाध्यक्ष ज्ञानेश्वर मिश्र ने कहा कि उच्चाधिकारियों से वार्ता के बाद आगे की कार्रवाई होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *