चुनावी हित साधने को भाजपा-सपा बांट रहे संगठनात्मक पद

चुनावी वर्ष में राजनीतिक दलों का भावनात्मक दांव

बलियाः यूपी में विधानसभा चुनाव के ठीक पहले सत्ताधारी दल भाजपा और मुख्य विपक्षी पार्टी सपा द्वारा संगठनात्मक ढांचा खड़ा किया जा रहा है। पार्टी के विभिन्न प्रकोष्ठ और मोर्चा के कार्यकारणी पदाधिकारियों का गठन हो रहा है। जिसके तहत प्रदेश, मंडल, जिला, तहसील, ब्लाक और बूथ लेबल तक के पदाधिकारियों की सूची जारी हो रही है। हर विधानसभा में विभिन्न पार्टी द्वारा दर्जनों की संख्या में नए पदाधिकारियों का मनोनयन किया गया है। जिनको सोशल साइट पर बधाई देने का तांता लगा हुआ है। इस होड़ में बसपा भी पीछे नहीं है और हर बूथ पर सात से दस पदाधिकारी का चयन किया जा रहा है।
युवा कार्यकर्ताओं को पद देकर पार्टी साध रहे एक तीर से दो निशाने
चुनावी वर्ष में जहां पूरे प्रदेश में सत्ताधारी दल के पदाधिकारियों और नेताओं की अधिकारी नहीं सुन रहे। ऐसे में पदाधिकारी बनने के बाद संगठन और जनता के लिए नए पदाधिकारी कौन सी सफलता हासिल करेंगे यह तो आने वाला समय बतायेगा किंतु फिलहाल तो विभिन्न राजीनीतिक दलों द्वारा एक तीर से दो निशाने साधे जा रहे है। दलों द्वारा पार्टी में असंतुष्टों को जिम्मेदारी देकर मनाने की कोशिश की जा रही है, साथ ही चुनावी वर्ष में पद देकर युवा कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा का संचार किया जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *