बिल्थरारोड की दम तोड़ चुकी चौकियां मोड़- मधुबन मार्ग को हर दिन रौंद रही 20 हजार गाडियां

सड़क की हो रही वीडियोग्राफी, पीडब्लूडी ने शासन को 13 करोड़ का भेजा प्रस्ताव

बलिया: पूर्वांचल के सबसे खराब सड़कों में शुमार बलिया जनपद के बिल्थरारोड चौकियां मोड़- मधुबन मार्ग की जर्जर सड़क को हर दिन अब भी करीब 20 हजार छोटी बड़ी गाड़ियां बेधड़क रौंद रही है। वह भी तब, जब उक्त जर्जर सड़क पर बड़े वाहनों का आवागमन पूरी तरह वर्जित है। हालांकि पीडब्लूडी ने इस सड़क के निर्माण के लिए शासन को 13 करोड़ का प्रस्ताव भेजा है। साथ ही विभाग के निर्देश पर पीडब्ल्यूडी यातायात गणना कराया जा रहा है। जिसके तहत बिल्थरारोड के सोनाडीह मोड़ के पास पीडब्ल्यूडी की 14 लोगों की टीम द्वारा उक्त मार्ग पर आने जाने वाले हर वाहनों की गणना की जा रही है। इसके लिए यहां 2 सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। विभाग की माने तो उक्त मार्ग पर हर दिन करीब 18270 वाहन दौड़ रहे हैं। इसमें भारी वाहनों में ट्रकों की संख्या करीब 270 एवं बस 110 शामिल हैं। जबकि उक्त मार्ग के जर्जर होने के कारण भारी वाहनों का आवागमन पूरी तरह से वर्जित है। इसके लिए चौकिया मोड़ एवं अखोप समेत कई स्थानों पर पीडब्ल्यूडी द्वारा बोर्ड भी लगाया गया है। पीडब्ल्यूडी बलिया के एई महेश कुमार वर्मा ने बताया कि मोहम्मदाबाद-मधुबन- बिल्थरारोड मार्ग के निर्माण नव निर्माण हेतु शासन को करीब 13 करोड़ का प्रस्ताव भेजा गया है। जिससे उक्त मार्ग का चौड़ीकरण एवं निर्माण होना है। जिसके लिए ही फिलहाल वीडियो रिकॉर्डिंग कराई जा रही है। उक्त मार्ग पर 7 दिन के अंतराल में आने जाने वाले वाहनों बस, ट्रक, ठेला, रिक्सा, टैक्सी, बाइक, ट्रैक्टर, कार, जीप, साईकिल समेत प्राइवेट व यात्री वाहनों की गणना कराई जा रही है। विभाग की माने तो करीब 20 टन की क्षमता वाले उक्त मार्ग की क्षमता वृद्धि होगी और चौड़ीकरण भी होगा। ताकि उक्त मार्ग पर भी सोनौली-बलिया एवं बलिया नगरा मार्ग की तरह सड़क मजबूत बन सके। मालूम हो कि उक्त सड़क के जर्जर होने के कारण आए दिन मार्ग पर ट्रक फंस जा रहे हैं और घंटो जाम लग जा रहा है। पिछले 2 साल से उक्त मार्ग की धूल और गड्ढे पहचान बन गई है। खराब सड़क का आलम यह है कि महज 3 किलोमीटर में लगभग 33 हजार गड्ढे हो गए हैं।

Related Articles

Back to top button