बलिया में 21वीं सदी में भी बांस के सहारे शौच की मजबूरी

बहाटपुर व खेतहरी में सौ घरों की हालत बदत्तर

विजय बक्सरी

बलिया: जनपद के बिल्थरारोड तहसील केे विशाल कोइली मुहान ताल में सरयू के पानी के मिलने से बहाटपुर व खेतहरी की हालत बद से बदत्तर है। यहां करीब सौ घर चारों तरफ से सात से आठ फीट तक जलजमाव से घिरा हुआ है। यहां सबसे बड़ी समस्या स्वच्छ पेयजल व शौचालय का है। लोगों को पीने के पानी के लिए नाव से दो किलोमीटर दूर से लाना पड़ रहा है। वहीं शौचालय के लिए पानी के बीच लोगों को बांस के सहारे ही मचान बनाकर शौचालय का प्रयोग करने को बाध्य है। शासन-प्रशासन द्वारा किसी तरह की मदद न मिलने से मजबूरन लोग स्वयं ही यहां बांस के सहारे शौचालय का विकल्प बना रहे ह और इसका प्रयोग हर घर के बच्चे, बूढ़े व महिलाएं कर रहे है। जिससे यहां संक्रामक बीमारी के फैलने का अंदेशा बढ़ने लगा है। वहीं बाढ़ प्रभावित इलाकों में कई लोग बीमार भी हो गए है। जबकि यहां अब तक शासन-प्रशासन की तरफ से किसी तरह का मदद पहुंचना तो दूर कोई प्रतिनिधि तक नहीं पहुंचा है। हां, यहां के क्षेत्रीय लेखपाल को क्षेत्र के हालात की पूरी जानकारी तो है किंतु गंवई राजनीति व सत्तापक्ष के नेताओं के दबाव में सही जानकारी उच्चाधिकारियों तक पहुंचने भी नहीं देते कि इन्हें किसी तरह की मदद मिल सके और पानी बीच गलीज व जानलेवा जिंदगी के बीच किसी तरह की सहायता मिल सके। 21वीं सदी में जहां देश-प्रदेश में स्वच्छता को लेकर महाअभियान चलाया जा रहा है। घर-घर शौचालय बनवाएं जा रहे है और लोगों को साफ-सफाई के लिए जागरुक किया जा रहा है। बावजूद यहां 60 घरों की आबादी में महज तीन से चार ही शौचालय का निर्माण हो सका है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button