बलिया – युवक की गोली मार कर हत्या , मारपीट में कई घायल

बलिया: जनपद बलिया के रेवती थाना अंतर्गत दुर्जनपुर पंचायत भवन पर गुरुवार को राशन दुकान आवंटन के लिए आयोजित खुली बैठक में पुलिस प्रशासन के सामने ही जमकर बवाल हुआ। इस बीच एक पक्ष ने पथराव शुरू कर दिया। जिससे करीब एक घंटे तक अफरातफरी व भगदड़ की स्थिति बनी रही। इस दौरान दूसरे पक्ष ने फायरिंग झोंक दिया। जिस से गोली लगने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। जबकि एक घंटे महिलाएं वह ग्रामीण गंभीर रूप से जख्मी हो गए। गोली लगने से जयप्रकाश उर्फ गामा पाल (45) की मौत हो गई। घायलों को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा भर्ती किया गया। पूरी घटना के दौरान पुलिस प्रशासन बेबस सी बनी रही। हालांकि प्रशासन ने थोड़ी देर बाद सख्ती का प्रयोग करते हुए किसी तरह स्थिति को नियंत्रित किया। उक्त खुली बैठक में हनुमानगंज व दुर्जनपुर गांव के लिए एक-एक कोटे की दुकान आवंटित होनी थी। दुर्जनपुर के दुकान के लिए दो पक्षों में तनातनी व कांटे की टक्कर के बीच वोटिंग की नौबत आ गयी। मौके पर मौजूद एसडीएम सुरेश कुमार पाल और सीओ चन्द्रकेश सिंह ने वोटिंग के लिए आधारकार्ड या अन्य पहचान पत्र की बाध्यता की जानकारी दी।

बैठक में एक पक्ष द्वारा वोटिंग की तैयारी न होने के कारण चयन प्रक्रिया से टालमटोल किया जाने लगा। जबकि दूसरा पक्ष वोटिंग कराने की जिद पर अड़ा रहा। इसे लेकर दोनों पक्षों में पहले जमकर हंगामा हुआ। इसी बीच एसडीएम के निर्देश पर बीडीओ बैरिया गजेंद्र प्रताप सिंह ने बैठक स्थगित कर सभी अधिकारी मौके से निकल गए। जिसके बाद दोनों पक्ष के बीच तनाव और बढ़ गया। एक पक्ष के लोग प्रशासन के विरोध में नारेबाजी शुरु कर दिए। देखते ही देखते गाली गलौज, मारपीट और ईट पत्थर चलने लगे। मौके पर मौजूद रेवती थाने की पुलिस स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर ही रही थी कि इसी दौरान एक तरफ से असलहे से फायरिंग शुरु हो गयी। जिससे जयप्रकाश पाल को चार गोलियां लगी और वह जमीन पर गिर कर छटपटाने लगा। उसे स्थानीय लोगों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा पहुंचाया।जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घायलों में नरेंद्र सिंह 45, आराधना सिंह 45, को आशा सिंह 40, राजेंद्र सिंह 45, अजय सिंह 50 और धर्मेंद्र सिंह 40 वर्ष आदि शामिल हैं। घटना के बाद बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। जिससे गांव छावनी में तब्दील हो गया। जबकि बावली भाग निकले। बाद में बलिया पुलिस अधीक्षक देवेंद्र नाथ दुबे ने भी घटनास्थल का निरीक्षण किया और बावलियों व असलहाधारी को पकड़ने के लिए टीम गठित कर दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button