पत्रकारों पर हमला लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश है

जनअधिकार पार्टी (लो.) के राष्ट्रीय महासचिव ने कहा इमरजेंसी जैसे हालात

बलियाः जनपद बलिया में जनअधिकार पार्टी (लो.) के राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता फजील अहमद ने गुरुवार को कहा कि देश में एकबार फिर इमरजेंसी जैसे हालात है। सच बोलने और गलत का विरोध करने पर पूरी तरह से पाबंदी लगाया जा रहा है।

देश में एकबार फिर इमरजेंसी जैसे हालात

कहा कि संपादक बृजेश मिश्रा के ऊपर हुए कार्यवाही के पीछे सरकार की कमजोरी साफ दिख रही है। जिससे यह साबित होता है कि सरकार अपनी गलती को छिपाने के लिए मशीनरी का इस्तेमाल कर रही है, यह हताश और निराश सरकार की पहचान है। फजील अहमद ने कहा कि ऐसी कार्रवाई देश में इंदिरा गांधी के आपातकाल के समय को याद दिलाता है। मानसून सत्र में सरकार सरकार 15 बिल लाकर देश को धोखा दे रही है। जबकि उस बिल में क्या है, कोई नहीं जानता है। ये सभी 15 बिल देश को बेचने वाला है और इस पर कोई न लिखे, इसलिए पत्रकारों के रास्ते राष्ट्र पर हमला किया जा रहा है। सरकार इसे हंगामे के बीच पास करवाना चाहती है। जैसे किसान बिल को भी पास करवाया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *